भोपाल शहर का इतिहास और भोपाल के 6 सर्वश्रेष्ठ पर्यटन स्थल

Social share

भोपाल शहर का इतिहास:

हमारे मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल को बनाया गया है यह शहर बहुत बड़ा और सुन्दर है क्योकि इसकी सुंदरता दूर से दिख जाएगी यह शहर पूरा पहाड़ियों में बसा हुआ है इसलिए इसकी सुंदरता अधिक बढ़ गई है भारत देश का यह शहर बहुत ही सुन्दर है। 1984 में भोपाल की आबादी केवल 850,000 थी, लेकिन वर्तमान समय में इसकी आबादी 2,447,000 लाख है और बढ़ती ही जा रही है भोपाल शहर में मुस्लिम समाज के लोग ज्यादा रहते है और यहाँ एशिया की सबसे बड़ी मस्जिद भी है इसलिए इस शहर का नाम बहुत प्रसिद्द है भारत का सबसे बड़ा लेक मतलब की सबसे बड़ा तालाब भोपाल शहर में ही है जिसका नाम बहुत प्रसिद्द है।

यहाँ भी पढ़िए: कुश्ती का इतिहास | कुस्ती का आरंभिक इतिहास कब और कैसे सुरु हुई

भोपाल का इतिहास:

भोपाल शहर का पुराना नाम भोजपाल था जिसे बाद में बदला गया तब भोपाल बना जिसकी स्थापना परमार राजा भोज (1000-1055) ने की थी। भोपाल को पहले भोजपाल नाम से भी बुलाया जाता था, जिसका नाम भोज के नाम पर रखा गया था, भोपाल शहर झीलों की नगरी है और राजा भोज ने यहाँ बहुत सरे झीलों को बनवाया और इनका निर्माण कराया था, जिसके बाद यहाँ इतनी सुंदरता थी भोपाल मध्य प्रदेश की राजधानी है जिसे मुख्य रूप से यहाँ बहुत निर्माण करके इसे और सुन्दर बनाया जा रहा है।

वन विहार नेशनल पार्क

वन विहार नेशनल पार्क बहुत बड़ा पार्क है यहाँ भोपाल शहर के 6 सबसे अच्छे पर्यटक स्थल भोपाल के बीचो बिच यह पार्क आपको देखने को मिल जायेगा भोपाल बस स्टैंड से 10 km की दूरी में यह मिल जायेगा आपको भारत में वन – विहार नेशनल पार्क का ऊपर ही लाया जाता है क्योकि यह बहुत बड़ा है इसे आप आसानी से नहीं घूम सकते झील के करीब निकटता में, यह विदेशी फूलों की प्रजातियों के अलावा पोरचीनी, जंगली सूअर, ब्लैकबक, चेटल, सांभर, ब्लू बुल, और हाइना जैसे वन्यजीवों की एक विस्तृत श्रृंखला का भी घर है। भोपाल का सबसे अच्छा पार्क है और यह बहुत बड़ा नेशनल पार्क है।

समय: यह पार्क 07:00 से 07:00 बजे तक खुला रहता है।

स्थान: लेक व्यू वॉक पाथ, श्यामला हिल्स, भोपाल, मध्य प्रदेश

बस स्टैंड से दूरी: बस स्टैंड से लगभग 10 किमी की दूरी पर स्थित है।

बड़ा तालाब (Bhopal)


राजा भोज ने 11 वीं शताब्दी में, झील का निर्माण किया था। भोपाल में सबसे प्रसिद्ध स्थानों में से एक, ऊपरी झील, जिसे स्थानीय रूप से ‘भोजताल’ या ‘बड़ा तालाब’ कहा जाता है, भारत की सबसे पुरानी मानव निर्मित झील है। माना जाता है, भारत का सबसे बड़ा लेक यानी की इसे भारत का सबसे बड़ा तालाब माना गया है जिसमे इतना पानी है की पूरा शहर को डूबा सकता है और इसमें बड़ी नाव चलती है यह बहुत बड़ा भोपाल शहर का दार्शनिक स्थान है जिसे दुनिया भर के लोग घूमने आते है यह बहुत लेक है। भोपाल शहर के 6 सबसे अच्छे पर्यटक स्थल

आपके भोपाल दौरे के कार्यक्रम में बिना किसी संदेह के एक शीर्ष स्थान पर है। शहर के बीचो बीच है यह तालाब और शहर के लास्ट तक फैला हुआ है इसका एक डैम भी है जो इसका पानी सम्मलित करता इसी के नजदीक में एक और पर्यटक स्थान है जिसे वन- विहार नेशनल पार्क के नाम से जाना जाता है कुछ ही दूर में यह पार्क मिल जायेगा आपको और यह घूमने के लिए सबसे अच्छे और सूंदर जगह है।

समय: सुबह 06:00 बजे से शाम 07:00 बजे तक देखा जा सकता है।

प्रवेश शुल्क: कोई प्रवेश शुल्क नहीं है।

स्थान: बड़ा तालाब , सीएम हाउस के पास, भोपाल, मध्य प्रदेश

बस स्टैंड से दूरी: भोपाल बस स्टैंड से 10 किमी पर है।

यहाँ भी पढ़िए: ओलम्पिक की शुरुआत: History of Olympic Games

ताज-उल-मस्जिद (भोपाल)

ताज-उल-मस्जिद, भोपाल की सबसे बड़ी मस्जिद है इसका नाम दुनिया की बड़ी मस्जिदों में इसका भी नाम आता है और इसमें एक साथ बहुत लोग नवाज पढ़ सकते है इसका नाम बहुत बड़ा है, मस्जिद का बाहरी पहलू एक सुखदायक गुलाबी रंग है और दो सफेद रंग जिससे मस्जिद बहुत सुन्दर लगती है यह बहुत बड़ी और विशाल मस्जिद है जिसे एशिया में भी इसका नाम है।

यह इतनी विशाल है की इसमें बहुत लोग एक साथ नवाज पढ़ सकते है, जो संगमरमर के फर्श से सुसज्जित है और स्तंभों पर बारीक नक्काशी है।

समय: मस्जिद 6:00 से 8:00 तक खुला रहता है

स्थान: ताज-उल-मस्जिद, भोपाल, मध्य प्रदेश

यहाँ भी पढ़िए: एशियाई खेलों का इतिहास और विवरण: History of Asian games

रायसेन किला:

किला की दूरी भोपाल से 23 किमी की दूरी पर स्थित, सुंदर रायसेन किला एक वर्धमान पहाड़ी के ऊपर बसा है, जो कुछ मंदिरों से घिरा है, कहा कि 800 साल से अधिक पुराना है, किला एक मंदिर और एक मस्जिद को आश्रय देता है।

किले ने 13 वीं शताब्दी में अपनी स्थापना के बाद से कई शासकों के शासनकाल को देखा है।

प्रवेश शुल्क: रायसेन किले में प्रवेश आगंतुकों के लिए मुफ्त है।

स्थान: रायसेन किला, रायसेन, एनएच 86, मध्य प्रदेश

भोपाल बस स्टैंड से दूरी: किला भोपाल बस स्टैंड से 45 किमी की दूरी पर स्थित है।

मध्य प्रदेश आदिवासी संग्रहालय

मध्य प्रदेश जनजातीय संग्रहालय बहुत अच्छी तरह से योजनाबद्ध है, और प्रदर्शित कार्यों की जड़ें आदिवासी संस्कृति में हैं। आदिवासी जीवन की कुछ मूल बातें सीखने के लिए प्रवेश द्वार पर ब्रोशर इकट्ठा करना उचित है। भोपाल शहर के 6 सबसे अच्छे पर्यटक जगह यह भोपाल का सबसे अच्छा संग्रहालय है, कई लोग इसे देखने आते हैं।

प्रत्येक आदिवासी संस्कृति, जीवन, कला और पौराणिक कथाओं को समर्पित है। यदि आप इतिहास से जुड़े हैं या पौराणिक कथाओं के शौकीन हैं, तो यह स्थान वह है जिसे आप बिल्कुल भी याद नहीं कर सकते। पुराने जमाने की तस्वीरों और यादगार चीजों को आदिवासी और हर प्राचीन चीज के बारे में पढ़ाया गया है।

समय: संग्रहालय हर दिन 12:00 से 08:00 बजे तक आगंतुकों के लिए खुला रहता है।

प्रवेश शुल्क: संग्रहालय का प्रवेश शुल्क भारतीयों के लिए प्रति व्यक्ति 10 रुपये और विदेशियों के लिए प्रति व्यक्ति 100 रुपये है।

स्थान: श्यामला हिल्स रोड, राज्य संग्रहालय के पास, शामला हिल्स, भोपाल, मध्य प्रदेश

भोपाल बस स्टैंड से दूरी: यह स्थान भोपाल बस स्टैंड से 7 किमी की दूरी पर स्थित है।

यहाँ भी पढ़िए: उत्तर प्रदेश: Traditions and All Sports of Uttar Pradesh

हलाली बांध:

भोपाल में सबसे प्रसिद्ध जलाशय हलाली नदी पर बनाया गया है, जो भी आप नौका विहार करने के लिए चुनते हैं, यह 699 वर्ग किलोमीटर का स्थान आकर्षक दृश्य के लिए बनाता है। भोपाल शहर के 6 सबसे अच्छे पर्यटक जगह यहां कई लोग पिकनिक मनाने जाते हैं।

यह स्थान चीतल और मिस्टस जैसे विभिन्न समुद्री जीवन का भी घर है। ऐसा माना जाता है कि राजा मोहम्मद खान नवाद ने नदी के किनारे दुश्मन सेना का वध किया था।

समय: प्रतिदिन प्रातः 08:00 बजे से अपराह्न 04:00 बजे तक आगंतुकों के लिए खुला।

प्रवेश शुल्क: हलाली डैम जाने के लिए कोई प्रवेश शुल्क नहीं है।

स्थान: हाली डैम, रायसेन जिला, मध्य प्रदेश

भोपाल बस स्टैंड से दूरी: भोपाल बस स्टैंड से होली डैम 44 किमी की दूरी पर स्थित है।

यहाँ भी पढ़िए: All Countries: सभी देशो के प्रमुख मैदानों और उनके खेलो की सूची

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *